कवि डाकू , स्कूल का निरिक्षण – इंग्लिश विन्ग्लिश , हिम्मत , काला बकरा और सफ़ेद बकरा , शैतान पप्पू! , दुनिया गोल है! हमारे पंजाब में Short Story 7 Daily hindi post

नमस्कार दोस्तों आज में ले कर आया हूँ  7 शार्ट स्टोरी इन 2020  

कवि डाकू 

एक कवि गरीबी से तंग आके डाकू बन गया .  
डकैती करने वो बैंक गया और जाके सबके ऊपर पिस्तौल तान दिया और बोला  
    
“अर्ज़ किया है … 
तकदीर में जो हैं , वोही मिलेगा  
तकदीर में जो है, वोही मिलेगा  
.. 
.. 
हैंड्स उप ! अपनी जगह से कोई नहीं हिलेगा !!” 
 
 
केशियर के पास जाके कहता है –  
“अपने कुछ ख़्वाब मेरी आँखों से निकाल लो  
अपने कुछ ख़्वाब मेरी आँखों से निकाल लो  
.. 
.. 
जो कुछ भी तुम्हारे पास है जल्दी से इस बैग में डाल दो !!  

जब वो बैंक लूट चूका था तो जाते जाते बोल के जाता है –  
“भुला दे मुझे , क्या जाता है तेरा  
भुला दे मुझे , क्या जाता है तेरा  
.. 
.. 
मैं गोली मार दूंगा जो किसी ने पीछा किया मेरा !! “


स्कूल का निरिक्षण  – इंग्लिश विन्ग्लिश

एक सरकारी स्कूल का इंस्पेक्शन करने शिक्षा अधिकारी आये हुए थे . 
 
एक क्लास में गए और ब्लाक्बोर्ड पर लिखा “NATURE” (इसे नेचर पढ़ते हैं ) और बच्चो से पूछा – बच्चो क्या तुम लोग इससे पढ़ सकते हो !  
सारे के सारे बच्चो नो हाँथ खड़ा कर दिया – सर मैं ! सर मैं ! – कह के उठने लगे .  
शिक्षा अधिकारी को बहुत अच्छा लगा – वो बहुत इम्प्रेस हुए . एक बच्चे से पुछा, लड़के ने बोला – सर ये हैं नटूरे !  
शिक्षा अधिकारी भौचक्के हो गए और दुसरे लड़के से पूछा , फिर तीसरे , चौथे … सबने कहा – नटूरे ! 
शिक्षा अधिकारी गुस्सा के आग बबूला हो गए – मास्टर साहब ये क्या उल्टा सीधा पढ़ा रखा है !! ये सब नेचर को नटूरे बोल रहे हैं !!  
मास्टर साहब – अरे जनाब ! बच्चे है – मटूरे नहीं हुए हैं , जब मटूरे हो जायेंगे तब सीख जायेंगे !  
(मास्टर साहब MATURE मेच्योर  को मटूरे  कह रहे थे ) 
  
शिक्षा अधिकारी गुस्से से वहा से निकले और सीधे पहुच गए प्रिंसिपल साहब के ऑफिस में .  
  
“प्रिंसिपल साहब ! क्या पढाई हो रही है? बच्चे नेचर को नटूरे पढ़ते हैं और मास्टर साहब  मेच्योर  को मटूरे  कह रहे हैं ” 
प्रिंसिपल साहब – “अरे जाने दे जनाब ! आपको क्यू परेशान होते हैं .. आप आराम से रेस्ट हाउस में जाए ! ये सब अपना फटुरे बिगाड़ रहे हैं – हमरा फटुरे नहीं !! “ 
(प्रिंसिपल  साहब FUTURE फ्यूचर को फटुरे  कह रहे थे ) 
  
शिक्षा अधिकारी जोर से चिल्लाये – “अगर ऊपर वालों का प्रेस्युरे नहीं होता तो मैं इस स्कूल को बंद करा देता ” 
(शिक्षा अधिकारी PRESSURE प्रेशर  को प्रेस्युरे  कह रहे थे )

इसे भी पढ़े 

परेशान आत्मा , मुझे मीट चाहिए , राजा की भटकती आत्मा जिसने बताया 1000 टन सोने का रहस्य , आत्मा ने किया मेरे बच्चे को जिंदा — हिंदी कहानी 2020

हिम्मत

मेडिकल कॉलेज और इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र साथ में पिकनिक मनाने वाटरफाल पर गए . वाटरफाल का पानी बहुत ठंडा था .  
  
मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ने इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल से कहा – मेरे छात्र बहुत हिम्मती हैं .  
  
 इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा – कैसे ? सिद्ध करो .. 
 
 मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ने कुछ छात्रो को बुलाया और आदेश दिया – जल्दी से ठन्डे पानी में जम्प लगाओ .  
  
छात्रो ने आव देखा ना ताव और कूद गए …  
  
मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल ने इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल से कहा – देखा !! कितने हिम्मती हैं ! 
  
इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा – बस इतनी सी बात ! मैं दिखता हूँ मेरे छात्र कितने हिम्मती हैं ..  
 
 इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल ने कुछ इंजीनियरिंग के छात्रो को बुलाया और आदेश दिया – जल्दी से ठन्डे पानी में जम्प लगाओ .  
  
इंजीनियरिंग के छात्रो ने कहा – पगला गए हो बढ़उ !! इतने ठन्डे पानी में जम्प करे !! चल हट !!  
  
इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा – देखा कितने हिम्मती हैं !!! 


काला बकरा और सफ़ेद बकरा 

एक टीवी चैनल का रिपोर्टर किसी दूर दराज़ के गाँव गया एक न्यूज़ का फिल्म बनाने. उसने तय किया की वो एक गरीब चरवाहे की स्टोरी बनाएगा और उसका इंटरव्यू लेगा ..  
गाँव में खोजा तो उसे सबने हकीरा का इंटरव्यू लेने को कहा , हकीरा का पास दो बकरे थे – एक काला और एक सफ़ेद …  
  
रिपोर्टर – तो हकीरा जी ! आप अपने बकरे को कहा चराते है …  
हकीरा – किस बकरे को ? सफ़ेद वाले को की काले वाले को ? 
रिपोर्टर – ऐसा हैं ! तो सफ़ेद वाले का बताओ  
हकीरा – उसे मैं पहाड़ी के उस पार चराता हूँ  
रिपोर्टर – और काले वाले को ? 
हकीरा – उसे भी वही चराता हूँ  
रिपोर्टर – आप अपने बकरे को रात में कहा सुलाते है ? 
हकीरा – किस बकरे को ? सफ़ेद वाले को की काले वाले को ? 
रिपोर्टर –  सफ़ेद वाले को  
हकीरा – उसे मैं बाहर सुलाता हूँ  
रिपोर्टर – और काले वाले को ? 
हकीरा – उसे भी वही सुलाता हूँ , बाहर .  
रिपोर्टर – अच्छा ! … और आप अपने बकरे को क्या खिलाते  है ? 
हकीरा – किस बकरे को ? सफ़ेद वाले को की काले वाले को ? 
रिपोर्टर (खीजते हुए ) –  सफ़ेद वाले को  
हकीरा – उसे मैं चना के छिलके का  चारा  खिलाता हूँ  
रिपोर्टर – और काले वाले को !? 
हकीरा – उसे भी वही खिलाता हूँ  
रिपोर्टर को बहुत गुस्सा आया – अबे साले !!  जब दोनों को एक ही जगह चराते हो , एक ही जगह सुलाते हो और एक सा खिलाते हो तो ये काला सफ़ेद – काला सफ़ेद  क्या लगा रखा है !??? 
हकीरा – जनाब ! … (गला साफ़ करते हुए ) … बात ऐसी है की सफ़ेद वाला बकरा मेरा हैं .. 
रिपोर्टर – और काला वाला किसका है  !? 
हकीरा – वो भी मेरा ही है … 
  
रिपोर्टर ने कुए में छलांग लगा ली ..

 

हमारे पंजाब में

सरदार जी पहली बार अपने लड़के मोंटी को स्कूटर पर घुमाने निकले .  
रास्ते मैं अंगूर दिखा . 
मोंटी चिल्लाया – पापा पापा !! अंगूर खाना हैं !  
सरदार जी – हुह ! हमारे पंजाब में तो बड्डे बड्डे अंगूर मिलते हैं ! ये तो अंगूरी हैं अंगूरी ! 
और आगे बढ़ गए .  
 
रास्ते मैं सेब दिखा . 
मोंटी चिल्लाया – पापा पापा !! सेब खाना हैं !  
सरदार जी – हुह ! हमारे पंजाब में तो बड्डे बड्डे सेब मिलते हैं ! ये तो सेबी हैं सेबी ! 
और आगे बढ़ गए .  
  
रास्ते मैं केला दिखा . 
मोंटी चिल्लाया – पापा पापा !! केला खाना हैं !  
सरदार जी – हुह ! हमारे पंजाब में तो बड्डे बड्डे केला मिलते हैं ! ये तो केली हैं केली ! 
और आगे बढ़ गए .  
  
रास्ते मैं समोसा दिखा . 
मोंटी चिल्लाया – पापा पापा !! समोसा खाना हैं !  
सरदार जी – हुह ! हमारे पंजाब में तो बड्डे बड्डे समोसा मिलते हैं ! ये तो समोसी हैं समोसी ! 
 
करते करते वो मोंटी तो लेकर वापस आ गए और कुछ भी नहीं लिया . 
मोंटी का गुस्सा सातवे आसमान पर था .  
माँ ने पूछा – पापा के साथ घुमने मैं मज़ा आया मोंटी ??  
  
मोंटी ने कहा –  हुह ! हमारे पंजाब में तो बड्डे बड्डे पापा मिलते हैं ! ये तो पापी हैं पापी !!! 

इसे भी पढ़े:-
शैतान पप्पू!

एक बार एक एक बुज़ुर्ग आदमी ने देखा कि पप्पू घर के दरवाज़े पर लगी घंटी बजाने कि कोशिश कर रहा होता परन्तु उसका हाथ घंटी तक नहीं पहुँच पा रहा होता है, यह देख बुज़ुर्ग आदमी पप्पू के पास गया और उस से पूछा, “क्या हुआ बेटा?” 
  
पप्पू: कुछ नहीं मुझे यह घंटी बजानी है पर मेरा हाथ नहीं पहुँच रहा तो क्या आप मेरे लिए ये घंटी बजा देंगे? 
  
यह सुन बूढ़ा आदमी तुरंत हाँ कर देता है और घंटी बजा देता है, और घंटी बजाने के बाद पप्पू से पूछता है, “और बताओ बेटा क्या मै तुम्हारे लिए कुछ और कर सकता हूँ?” 
  
यह सुन पप्पू बोला, “हाँ अब मेरे साथ भाग बुढ्ढे वरना तू भी पिटेगा अगर मकान का मालिक बाहर आ गया तो।” 


दुनिया गोल है! 

बॉस (सेक्रेटरी से): तुम और मैं एक हफ्ते के लिए लंदन जा रहे हैं। ज़रूरी मीटिंग है। 
 
सेक्रेटरी (पति से): ऑफिस के काम से मुझे बॉस के साथ एक हफ्ते के लिए लंदन जाना है। जरूरी मीटिंग है। 
 
पति (अपनी गर्लफ्रेंड से, जो एक टीचर है): मेरी बीवी एक हफ्ते के लिए बाहर जा रही है। उसके जाते ही तुम घर आ जाना। 
 
गर्लफ्रेंड (स्टूडेंट्स से): बच्चो, मैं एक हफ्ते के लिए बाहर जा रही हूं, इसलिए तुम्हारी एक हफ्ते की छुट्टी। 
 
एक स्टूडेंट (अपने पिता से, जो कि बॉस है): डैड, मेरी एक हफ्ते की छुट्टी है। मैं घर आ रहा हूं, आप कहीं मत जाना। 
 
बॉस (सेक्रेटरी से): मेरा बेटा आ रहा है। लंदन जाना कैंसल। 
 
सेक्रेटरी (पति से): लंदन जाना कैंसल हो गया। 
 
पति (गर्लफ्रेंड से, जो कि टीचर है): पत्नी नहीं जा रही। हमारा प्रोग्राम कैंसल। 
नमस्कार दोस्तों कैसी लगी हमारी 7 शार्ट स्टोरी ऐसी और स्टोरी देखने के लिए होम पेज पर फॉलो बटन को प्रेस कर ले जिसे से मेरी हर पोस्ट की नोटिफिकेशन आपको सबसे पहले मिले 
अगर आप अपने दोस्तों या रिश्तेदारों को यह स्टोरी सेंड करना चाहते है तो आप इसे अपने सोशल  मीडिया से जैसे Instagram , Facebook , Twitter पर शेयर कर सकते है  

Thanks You

Leave a Comment